भारत के एशियाई उत्पादकता संगठन के पूर्व सदस्यों का संघ (एएएआई)

 

 

भारतीय एशियाई उत्‍पादकता संगठन एल्‍यूमनी (पूर्व सदस्‍यों) के संघ का गठन 2008 में किया गया था । एएएआई का गठन भारत में उत्‍पादकता आंदोलन के सभी हितधारकों के प्रयासों की परिणति है । एएएआई सदस्‍यों में वे सभी शामिल हैं जिन्‍होंने भारत की ओर से एशियाई उत्‍पादकता संगठन द्वारा आयोजित मानव संसाधन विकास गतिविधियों में भाग लिया है, अर्थात आमने सामने कार्यक्रम अथवा ई-लर्निंग कार्यक्रम अथवा अध्‍ययन मिशन में भाग लिया हो । अपने मिशन की प्राप्ति हेतु एएएआई सामाजिक संप्रेषण हेतु मंच उपलब्‍ध करने का प्रावधान करना एवं पूर्व सदस्‍यों (एल्‍यूमनी) के मध्‍य नेटवर्किंग के लिए विभिन्‍न भमिकाएं अदा करेगा ।

 

मिशन

 
 

• भारतीय संगठनों के एपीओ संघों को साझा मंच पर लाकर एक विश्‍वस्‍तरीय उत्‍पादकता व्‍यवसायी संगठन बनाना ।

• शैक्षिक व्‍यवसायी में एवं/अथवा व्‍यवसाय क्षेत्र में सामूहिक लाभ हेतु व्‍यवसायिक नेटवर्किंग की सुविधा उपलब्‍ध करवाना ।

• एशियाई उत्‍पादता संगठन और राष्‍ट्रीय उत्‍पादकता परिषद भारत के मिशन के प्रति सहयोग हेतु एल्‍यूमनी (पूर्व सदस्‍यों) को सुविधा प्रदान करना तथा प्रोत्‍साहित करना ।

• भारत के उत्‍पादकता विकास के प्रति समर्पित बिना लाभ के लिए कार्यरत संगठनों को विशेषज्ञता, प्रयास प्रदान करना एवं/अथवा वित्तीय संसाधनों की प्राप्ति हेतु सहायता प्रदान करना ताकि वे समाज के उत्‍थान के लिए योगदान दे सकें ।

 

लक्ष्‍य

• एल्‍यूमनी को व्‍यवसायिक नेटवर्किंग योग्‍य बनाना, एल्‍यूमनी के उत्‍पादकता व्‍यवसायों के साथ-साथ एपीओ-एनपीसी इंडिया के कर्मचारियों के साथ एल्‍यूमनी के साथ शैक्षिक,व्‍यवसायिक एवं/अथवा वाणिज्यिक क्षेत्रों में सामूहिक लाभ प्राप्‍त करना ।

• सामाजिक संप्रेषण एवं विशेष रूचि समूह हेतु मंच उपलब्‍ध करवाना ।

• राष्‍ट्रीय उत्‍पादकता परिषद भारत एवं एशियाई उत्‍पादकता ससंगठन के प्रचार गतिविधियों हेतु निधि इकट्ठा करना ।

• ‘विजिटिंग फैकल्‍टी नेटवर्क‘, ‘बाह्य परामर्शदाता नेटवर्क’ इत्‍यादि के द्वारा विभिन्‍न नेटवर्को के माध्‍यम से राष्‍ट्रीय उत्‍पादकता परिषद को व्‍यावसायिक सहायता उपलब्‍ध करवाना ।

• उत्‍पादकता अनुसंधान गतिविधियों की सहायता हेतु वित्तीय एवं तकनीकी सहयोग उपलब्‍ध करवाना ।

• प्रमुखतया समाज सुधार हेतु एवं राष्‍ट्रीय विकास में सहयोग हेतु ग‍तिविधियों के संचालन में एल्‍यूमनी को प्रोत्‍साहित करना एवं सहायता उपलब्‍ध करवाना ।

• संगठन की गतिविधियों एवं कार्यो के सुचारू संचालन हेतु अपेक्षित निधि की उपलब्‍धता करवाना ।

 

राष्‍ट्रीय उत्‍पादकता परिषद की महानिदेशक सुश्री कल्‍पना अवस्‍थी, आई.ए.एस. एएएआई की संरक्षक उनके साथ उप महानिदेशक श्री सिद्धार्थ शर्मा अध्‍यक्ष एवं अन्‍तर्राष्‍ट्रीय सेवाओं  के निदेशक श्री के.डी. भारद्वाज उपाध्‍यक्ष होंगे ।

 

अन्‍य किसी भी जानकारी के लिए उप निदेशक, अन्‍तर्राष्‍ट्रीय सेवाएं श्री जितीन कपूर से    फोन नं: 24607312 एवं/अथवा ईमेल- jitin.kapoor@npcindia.gov.in पर संपर्क किया जा सकता है ।